मकरासन के फायदे, अभ्यास की विधि तथा सावधानियां (Makarasana benefits, technique and precautions in Hindi)

योगासनों का अभ्यास शरीर को स्वस्थ रखने तथा मांसपेशियों को विकसित करने के लिए बहुत महत्वपूर्ण है| भिन्न-भिन्न योगासन शरीर के भिन्न-भिन्न हिस्सों पर अपना प्रभाव डालते हैं| योगासनों के प्रभाव को शरीर पर महसूस करने, थकने से बचने व विश्राम आदि के लिए भी कुछ आसनों का अभ्यास किया जाता है| मकरासन उनमें से एक आसन है जोकि मांसपेशियों के विश्राम व शिथिलीकरण के लिए किया जाता है|

Makarasana benefits in Hindi

मकरासन क्या है (what is Makarasana)?

मकरासन दो शब्दों के मेल से बना है मकर + आसन| मकर का अर्थ है मगरमच्छ तथा आसन का अर्थ है मुद्रा | आसन करते हुए जब हम पूर्णता की स्थिति में आते हैं तो शरीर की आकृति मगरमच्छ के समान दिखाई देती है इसलिए इसे मकरासन कहते हैं| मांसपेशियों को आराम तथा शरीर को विश्राम देने के लिए यह आसन बहुत महत्वपूर्ण है|

मकरासन की विधि (Procedure of Makarasana in Hindi)

Step 1: मकरासन के लिए पेट के बल लेटें|

Step 2: अब पहले दायां हाथ उसके ऊपर बायां हाथ रखें व हाथों के ऊपर माथा रखें|

Step 3: दोनों पैरों में जितना संभव हो उतना फासला करें

Step 4: पैरों की उँगलियाँ (पंजे) बाहर की ओर हों|

Step 5: आँखें बंद रखें व विश्राम करें|

Step 6: यह पूर्णता की स्थिति है| लम्बे-गहरे श्वास लें धीरे-धीरे श्वास सामान्य हो जायेंगे|

Step 7: आसनों के बाद विश्राम के लिए इस आसन का अभ्यास किया जाता है|

मकरासन के फायदे (Makarasana benefits in Hindi)

मांसपेशियों के आराम के लिए: आसनों का अभ्यास करते समय जिन मांसपेशियों पर अधिक श्रम पड़ा हो उन्हें पूरा आराम देने के लिए मकरासन बहुत लाभदायक आसन है|

तनाव व चिंता से राहत: इस आसन का नियमित अभ्यास करने से तनाव व चिंता से सम्बंधित problems को दूर करने में आसानी होती है|

पीठ, कमर व रीढ़ में आराम: यह आसन पीठ-दर्द, lower back pain, तथा रीढ़-सम्बंधी समस्याओं को दूर करने में लाभदायक है|

मकरासन किन-किन के लिए वर्जित है (For whom Makarasana is prohibited)?

  • जिन्हें ह्रदय सम्बंधी (heart problem) समस्या हो उन्हें यह आसन नहीं करना चाहिए|
  • गर्भवती महिलाओं को यह आसन नहीं करना चाहिए|
Babita Gupta

M.A. (Psychology), B.Ed., M.A., M. Phil. (Education). मैंने शिक्षा के क्षेत्र में Assistant professor व सरकारी नशा मुक्ति केंद्र में Counsellor के रूप कार्य किया है। मैं अपने ज्ञान और अनुभव द्वारा blog के माध्यम से लोगों के जीवन को तनाव-मुक्त व खुशहाल बनाना चाहती हूँ।

Leave a Comment