कमर चक्रासन विधि, लाभ तथा सावधानियां (Kamar Chakrasana Benefits, Technique and Precautions in Hindi)

इस blog में कमर चक्रासन क्या है? (What is kamar chakrasana) कमर चक्रासन के लाभ (benefits of kamar chakrasana), करने की विधि (kamar chakrasana steps) और किस को यह आसन नहीं करना चाहिए इसके बारे में जानेंगे|

कमर चक्रासन कमर के दर्द में आराम दिलाने व मोटापा घटाने के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण आसन है| इस आसन के करने से कमर का निचला भाग, रीढ़, hips तथा पेट के अंग प्रभावित होते हैं|

योगाभ्यास द्वारा न केवल शारीरिक बल्कि मानसिक लाभ भी प्राप्त होता है| योगाभ्यास शारीरिक विकार जैसे मधुमेह, श्वास सम्बन्धी विकार, high-low B.P., कई प्रकार की शारीरिक–पीड़ा (body pain) को कम करने के साथ-साथ मानसिक विकार जैसे तनाव, अवसाद, थकान, चिंता, आदि को कम करने में भी सहायक है|

कमर चक्रासन क्या है (What is Kamar Chakrasana )?

कमर चक्रासन में चक्र का अर्थ है पहिया| आसन करने के लिए हम कमर के भाग से दाएं-बाएं एक चक्र (wheel) के समान घूमते हैं, इसलिए इसे कमर चक्रासन कहते हैं| कमर चक्रासन बैठ कर किये जाने वाले आसनों में बहुत ही सरल व महत्वपूर्ण आसन है|

Kamar Chakrasana Benefits in Hindi

कमर चक्रासन विधि (Procedure of Kamar Chakrasana in Hindi)

  • Step 1: कमर चक्रासन करने के लिए आसन पर सीधे बैठ जाएँ|
  • Step 2: अपने पैरों में अधिक से अधिक फासला करें|
  • Step 3: दांई भुजा ऊपर तानें व बांई भुजा कमर के पीछे रखें|
  • Step 4: श्वास छोड़ते हुए कमर के भाग से बांई ओर झुकें|
  • Step 5: दाएं हाथ की कलाई बाएं पैर के अंगूठे से आगे व माथा घुटने पर हो|
  • Step 6: श्वास भरते हुए धीरे-धीरे वापिस आएं|
  • Step 7: अब बांई भुजा ऊपर व दांई भुजा कमर के पीछे रखें|
  • Step 8: श्वास छोड़ते हुए बाएं हाथ की कलाई दाएं पैर के अंगूठे से आगे व माथा घुटने पर हो|
  • Step 9: श्वास भरते हुए धीरे-धीरे वापिस आएं|
  • Step 10: इस प्रकार ये एक आवृति हुई| अपने समर्थ्य के अनुसार कई आवृतियाँ की जा सकती हैं|
  • Step 11: अब पैरों में फासला कम करें व विश्राम करें|

कमर चक्रासन (kamar chakrasana) करने की सही विधि की पूरी जानकारी आप मेरे इस youtube link पर भी देख सकते हैं|

ये भी पढ़ें: शलभासन के फायदे, अभ्यास की विधि तथा सावधानियां

कमर चक्रासन लाभ (Kamar Chakrasana Benefits in Hindi)

रीढ़ लचीली बनती है: कमर चक्रासन करते समय जब हम कमर के भाग से दाएं व बाएं घूमते हैं तो रीढ़ (Spine) प्रभाव में आती हैं| इसलिए इस आसन के करने से रीढ़ लचीली बनती हैं|

कमर दर्द में आराम: इस आसन का नियमित अभ्यास करने से कमर दर्द में आराम मिलता है|

चर्बी कम होती है: कमर चक्रासन का अभ्यास करते समय जब हम आगे की ओर झुकते हैं तो पेट व hips की मांसपेशियां प्रभावित होने से पेट व hips की चर्बी कम होती है|

मोटापा घटता है: कमर चक्रासन का नियमित अभ्यास करने से पेट की मांसपेशियां प्रभाव में आने से मोटापा कम होता है|

साइटिका के दोष दूर: कमर चक्रासन करने से hips की मांसपेशियों में खिंचाव आता है जिससे साइटिका के दोष दूर होते हैं|

पैर मजबूत बनते हैं कमर चक्रासन का अभ्यास करते समय टांगों में खिंचाव आने से पैरों की मांसपेशियां मजबूत बनती हैं|

ये भी पढ़ें: सेतुबंधासन के अभ्यास की विधि, फायदे तथा सावधानियां

FAQ’s  :- कमर चक्रासन (kamar chakrasana) के बारे में कुछ सामान्य प्रश्न (Questions)
  • कमर चक्रासन कब और कितनी बार करना चाहिए (When and how many times kamar chakrasana should be done)?

कमर चक्रासन की एक आवृति दाएं व बाएं तरफ करने पर पूरी होती है| इस प्रकार शुरू में ऐसी 10 से 12 आवृतियाँ की जा सकती हैं| धीरे-धीरे इन की संख्या बढ़ाते जाएं| अभ्यास होने पर 10 मिनट तक इस आसन को आसानी से किया जा सकता है| अपने सामर्थ्य के अनुसार समय बढ़ाया जा सकता है|

  • कमर चक्रासन के क्या लाभ हैं (kamar chakrasana benefits)?

कमर चक्रासन कमर दर्द में आराम दिलाता है| इसे करने से रीढ़ का निचला भाग लचीला बनता है| इसका नियमित अभ्यास करने से पेट व hips की चर्बी कम होती है और विशेष रूप से side की चर्बी कम होती है|

  • कमर चक्रासन किन-किन को नहीं करना चाहिए (For whom kamar chakrasana prohibited)?

जिन्हें कमर के निचले भाग में दर्द अधिक हो या slip-dics की समस्या हो तो उन्हें यह आसन नहीं करना चाहिए|

बाकी सभी सामान्य स्वास्थ्य वाले युवा व वृद्ध इस आसन को कर सकते हैं|

हमने इस blog में जाना कि कमर चक्रासन क्या है? (What is kamar chakrasana) कमर चक्रासन के लाभ ( kamar chakrasana benefits), करने की विधि (kamar chakrasana steps) और किस को यह आसन नहीं करना चाहिए|
इस आसन से सम्बंधित कोई भी जानकारी चाहिए या कोई सुझाव आपके पास हो तो comment box में लिख सकते हैं|

 

 

Babita Gupta

M.A. (Psychology), B.Ed., M.A., M. Phil. (Education). मैंने शिक्षा के क्षेत्र में Assistant professor व सरकारी नशा मुक्ति केंद्र में Counsellor के रूप कार्य किया है। मैं अपने ज्ञान और अनुभव द्वारा blog के माध्यम से लोगों के जीवन को तनाव-मुक्त व खुशहाल बनाना चाहती हूँ।

Leave a Comment