पौष्टिक व संतुलित आहार का जीवन में महत्व (Poushtik v santulit aahar in Hindi)

मेरे इस blog में आहार क्या है (Aahar kya hai)?, पौष्टिक व संतुलित आहार क्या है (Poushtik v santulit aahar), तथा इसके लाभों (Poushtik v santulit aahar benefits) के बारे में बताया गया है|

आजकल हम देखते हैं कि जीवन बहुत तनावपूर्ण व भागदौड़ भरा हो गया है| बच्चे हों या बड़े सभी जीवन की जद्दोजहद से जूझ रहे हैं| इस कारण विभिन्न प्रकार की बीमारियां शरीर को घेरे रहती हैं| इसका मुख्य कारण हमारी जीवन शैली है|

इसके लिए सभी को अपनी जीवन शैली में सुधार करने की आवश्यकता है| अब प्रश्न आता है कि जीवन शैली में सुधार कैसे किया जाये? जीवन शैली में सुधार के लिए हमें योग, आहार, पूरी नींद, आपसी संबंध (relationship) व संवाद आदि की तरफ ध्यान देने की जरूरत है|

योग द्वारा हम अपने शरीर को चुस्त, लचीला, मजबूत तथा स्वस्थ बना सकते हैं| कहा भी गया है– स्वस्थ शरीर में स्वस्थ आत्मा का वास होता है| शरीर स्वस्थ होगा तो हमारा मन खुश रहेगा तथा हम तनाव से भी मुक्त रहेंगे|

आहार हमारे जीवन का महत्वपूर्ण भाग है| कुछ लोग जीने के लिए खाते हैं अर्थात् वे पर्याप्त व संतुलित भोजन शरीर की आवश्यकता के अनुसार लेते हैं| परन्तु बहुत से लोग खाने के लिए जीते हैं जो की जीभ के स्वाद की वजह से जरूरत से अधिक, कम पौष्टिक व बे-वक्त खाते हैं जो विभिन्न बिमारियों का कारण बनता है| हमारी जीवन शैली का यही एक महत्वपूर्ण भाग है जहाँ हमें बदलाव करने की आवश्यकता है|

Importance of Balanced Diet in life in Hindi

सबसे जरुरी है कि आहार की मात्रा उतनी लेनी चाहिए जितनी शरीर को जरूरत हो- न तो बहुत अधिक खाना चाहिए और न ही बहुत कम| हमें ताजा भोजन लेना चाहिए तथा packed-food नहीं खाना चाहिए| हमें एक निर्धारित समय पर भोजन करने की आदत बनानी चाहिए अर्थात् भोजन नियत समय पर करना चाहिए| शरीर व मन को स्वस्थ रखने के लिए हमें पौष्टिक व संतुलित आहार का सेवन करना चाहिए| आइये जाने आहार क्या है, इसमें किस प्रकार के खाद्य पदार्थों को शामिल करना चाहिए तथा इसे पौष्टिक व संतुलित कैसे बनाया जा सकता है|

आहार क्या है? (What is aahar/diet?)

पांच मूलभूत तत्वों (पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु व आकाश) से बने हुए इस शरीर को स्वस्थ रखने के लिए हमें खाद्य पदार्थों की आवश्यकता पड़ती है| इन्हीं खाद्य पदार्थों को आहार कहते हैं| वह खाद्य पदार्थ जिसे खाने से हमारी भूख शांत हो तथा मन तृप्त हो आहार या भोजन कहलाता है| आहार में वो सभी पोषक तत्व शामिल होने चाहिए जो हमारी शारीरिक व मानसिक आवश्यकताओं को पूरा कर सकें| आहार सुपाच्य हो अर्थात् उसे पचाने में समय व मेहनत कम लगे|

पौष्टिक व संतुलित आहार क्या है? (Poushtik v santulit aahar kya hai?)

विभिन्न पौष्टिक तत्वों से युक्त भिन्न-भिन्न खाद्य पदार्थों के उस मिश्रित रूप को पौष्टिक व संतुलित आहार कहते हैं जो हमारी शारीरिक व मानसिक आवश्यकताओं की पूर्ति करता है| केवल एक ही प्रकार के खाद्य पदार्थ में सभी पोषक तत्व पर्याप्त मात्रा में विद्यमान नहीं होते इसलिए भिन्न-भिन्न खाद्य पदार्थों को मिला कर प्रयोग करना चाहिए ताकि हमें सभी पोषक तत्व मिल सकें| इन पोषक तत्वों से शरीर का निर्माण भी होता है तथा टूट-फूट की पूर्ति भी होती है|

पौष्टिक व संतुलित आहार के भाग (Parts of Poushtik v santulit aahar)

पौष्टिक व संतुलित आहार (Nutritious and Balanced Diet) में अनेक प्रकार के पोषक तत्व होते हैं जो शरीर का विकास करते हैं, उसे स्वस्थ रखते हैं तथा शक्ति प्रदान करते हैं| ये पोषक तत्व निम्न प्रकार के हैं – कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, वसा (Fat), विटामिन, खनिज, कैल्शियम आदि| पोषक तत्वों के अनुसार आहार को तीन वर्गों में बांटा जा सकता है:

1: कार्बोहाइड्रेट, वसा व स्टार्च: ये पोषक तत्व अनाज – जैसे गेहूं, बाजरा, रागी, चावल, मक्की, ज्वार आदि, घी, तेल जैसे सरसों, जैतून, मूंगफली आदि, आलू, शकरकंदी, शहद, sugar, में मिलते हैं| ये खाद्य पदार्थ शरीर को उर्जा देने का काम करते हैं|

2: प्रोटीन, कैल्शियम आदि: ये पोषक तत्व दूध, पनीर, सोयाबीन, चना, दालें, मटर, सेम, मूंगफली, अंडा, मछली आदि में मिलते हैं| इनमें प्रोटीन व कैल्शियम भरपूर मात्रा में पाया जाता है| इसके अतिरिक्त कैल्शियम हमें हरी पत्तेदार सब्जियों जैसे पालक, पौदिना, मैथी आदि तथा dryfruit में जैसे भीगी बादाम व अखरोट से भी मिलता है| दूध एक सम्पूर्ण आहार है इसमें सभी प्रकार के पौषक तत्व जैसे प्रोटीन, वसा, कार्बोहाइड्रेट, विटामिन, मिनरल्स आदि पाए जाते हैं| ये खाद्य पदार्थ शरीर में नई कोशिकाओं का निर्माण करते हैं| ये मांसपेशियों, हड्डियों व चोटों को ठीक करने का काम करते हैं| इसलिए ये खाद्य पदार्थ शरीर का विकास करने वाले कहलाते हैं|

3: विटामिन व खनिज आदि: ये हमें फल तथा सब्जियों में मिलते हैं जैसे सेब, अनार, संतरा, आम, पपीता, गाजर, चकुंदर, हरी पत्तेदार सब्जियां, ब्रोकली आदि| ये बीमारियों से लड़ने का काम करते हैं| ये हमारे शरीर की सुरक्षा करते हैं | ये सुरक्षात्मक खाद्य पदार्थ कहलाते हैं|

Unblanced diet तथा less physical movement के कारण स्वास्थ्य का खतरा बढ़ता जा रहा है| इसलिए हमें पौष्टिक व सुपाच्य भोजन का सेवन करना चाहिए| अगर भोजन सुपाच्य ना हो तो इसके कारण गैस, एसिडिटी, बदहजमी, कब्ज आदि की समस्याएं तो बढ़ती ही हैं साथ ही डायबिटीज, High B.P., कॉलेस्ट्रोल, ब्रेन स्ट्रोक, लीवर व किडनी के दोष आदि की सम्भावनाएं भी बढ़ जाती हैं|

व्यक्ति भोजन के प्रति स्वाद और आदतों के कारण कभी कम तो कभी अधिक मात्रा में भोजन का सेवन करता है| संतुलित आहार की मात्रा उम्र, लिंग, जीवन-शैली व शारीरिक गतिविधि के आधार पर बदलती रहती है| स्वस्थ रहने के लिए पौष्टिक आहार का विशेष महत्व है| इसमें मानव शरीर के लिए प्रोटीन, कैल्शियम, healthy fat, विटामिन और कार्बोहाइड्रेटस आदि पौषक तत्व शामिल होते हैं|

जीवन को स्वस्थ रखने के लिए केवल गेंहू खाने के बजाए मोटे अनाज जैसे चना, बाजरा, मक्की, जौं, ज्वार आदि  का सेवन करें| इनमें फाइबर, प्रोटीन, आयरन, विटामिन व मिनरल्स भरपूर मात्रा में मिलते हैं| इनमें से मक्की, बाजरा, रागी व ज्वार की तासीर गर्म होती है जबकि जौं की तासीर ठंडी होती है| सोयाबीन व चना का सेवन हर मौसम में किया जा सकता है| इसलिए इनका सेवन मौसम के अनुसार करें|

आंवला व संतरे में विटामिन-C मिलता है| अनार व सेब में आयरन ज्यादा होता है| इसलिए प्रतिदिन एक फल बच्चों को भी जरुर दें| Multi grain आटे का प्रयोग करें| इससे पौषण तो मिलेगा ही साथ ही खाने में नयापन आएगा और इसे बच्चे भी चाव से खायेंगे|

फाइबर हमारे पाचन को मजबूत करते हैं| Seasonal fruits तथा vegetables में फाइबर होता है| इसलिए इन्हें अवश्य खाएं| फाइबर को diet में बढ़ाने के लिए चौकर सहित आटे का use करें|

55 से 60 वर्ष की आयु के बाद भोजन में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन और वसा की मात्रा को कम कर देना चाहिए| तथा विटामिन, मिनरल्स व पानी बढ़ाने के लिए फल, सब्जियां,व तरल भोजन की मात्रा को बढ़ाएं|

स्वस्थ शरीर के लिए पौष्टिक व संतुलित आहार लेने के साथ-साथ योग का भी अभ्यास करना चाहिए|

आहार के साथ पानी का महत्व (Importance of water)

पौष्टिक व संतुलित आहार के साथ-साथ हमें पानी पीने की तरफ भी ध्यान देने की जरूरत है क्योंकि हमारे शरीर में लगभग 70 प्रतिशत हिस्सा पानी है| पानी का असंतुलन हमें बीमार कर सकता है| इसलिए पानी भी हमारे शरीर का महत्वपूर्ण पोषक तत्व है| पानी हमारे शरीर के पोषक तत्वों को एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाने में सहायता करता है| पानी शरीर का तापमान ठीक रखता है, वसा को पचाता है, उर्जा देता है, पाचन क्रिया में सहायता करता है तथा शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालता है| इसलिए हमें प्रतिदिन कम से कम 8 -10 गिलास (2-3 लीटर) पानी अवश्य पीना चाहिए| पानी भोजन के साथ न पीकर खाने से पहले पीना चाहिए या भोजन के एक घंटे बाद पीना चाहिए| सुबह उठकर पानी पीना भी लाभदायक है|

पौष्टिक व संतुलित आहार के लाभ (Poushtik v santulit aahar benefits in Hindi)

  1. पौष्टिक व संतुलित आहार हमें बाहरी व आंतरिक गतिविधियों को करने के लिए उर्जा प्रदान करता है|
  2. यह हमारे शरीर के विकास व रखरखाव के लिए पोषक तत्वों को उचित मात्रा में प्रदान करता है जिससे स्वास्थ्य ठीक रहता है|
  3. पौष्टिक व संतुलित आहार बीमारियों से बचाने में तथा इम्युनिटी बढ़ाने में हमारी मदद करता है|
  4. यह वजन को नियंत्रित रखता है तथा मोटापा नहीं आने देता|
  5. पौष्टिक व संतुलित आहार सम्पूर्ण स्वास्थ्य के लिए लाभकारी है|

Read: Stress management

FAQ’s: पौष्टिक और संतुलित आहार से सम्बंधित सामान्य प्रश्न (Questions related to poushtik and santulit aahar)|

पौष्टिक आहार के अनिवार्य तत्व क्या हैं? (What are the elements of nutritious diet)

पौष्टिक आहार में वे सभी तत्व पाए जाते हैं जो हमारे शरीर को सही प्रकार से कार्य करने में मदद करें| जैसे कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, वसा, विटामिन, मिनरल्स आदि|

पौष्टिक आहार क्या है? (Poushtik aahar kya hai)?

वह आहार जिसमें प्रोटीन, वसा, कार्बोहाइड्रेट, विटामिन, मिनरल्स आदि सही मात्रा में पाए जाते हैं| पौष्टिक आहार से हमारे शरीर को उचित मात्रा में पौषण मिलता है| इससे शरीर का विकास ठीक प्रकार से होता है और टूट-फूट की पूर्ति भी होती है

संतुलित आहार क्या है? (What is balanced diet in Hindi)?

वह भोजन, जिसमें शरीर के अनुकूल पौषक तत्व हों,वह हल्का सुपाच्य तथा उपयुक्त मात्रा में हो, संतुलित आहार कहलाता है|

पौष्टिक आहार के लाभ क्या हैं? (Benefits of poushtik aahar)?

पौष्टिक आहार शरीर के विकास के लिए पौषक तत्वों को उचित मात्रा में प्रदान करता है, जिससे स्वास्थ्य ठीक रहता है| यह हमे बिमारियों से बचाने तथा इम्युनिटी बढ़ाने में हमारी सहायता करता है| वजन को control करता है तथा मोटापा नहीं आने देता| पौष्टिक आहर शरीर को ऊर्जा प्रदान करता है| यह शारीरिक व मानसिक स्वास्थ्य के लिया लाभदायक है|

मेरे इस blog में आहार क्या है (Aahar kya hai)?, पौष्टिक व संतुलित आहार क्या है (Poushtik v santulit aahar), तथा इसके लाभों (Poushtik v santulit aahar benefits) के बारे में जाना|

इस विषय से सम्बंधित कोई भी जानकारी चाहिए या कोई सुझाव आपके पास हो तो comment box में लिख सकते हैं|

Babita Gupta

M.A. (Psychology), B.Ed., M.A., M. Phil. (Education). मैंने शिक्षा के क्षेत्र में Assistant professor व सरकारी नशा मुक्ति केंद्र में Counsellor के रूप कार्य किया है। मैं अपने ज्ञान और अनुभव द्वारा blog के माध्यम से लोगों के जीवन को तनाव-मुक्त व खुशहाल बनाना चाहती हूँ।

1 thought on “पौष्टिक व संतुलित आहार का जीवन में महत्व (Poushtik v santulit aahar in Hindi)”

Leave a Comment