शशकासन के अभ्यास की विधि, फायदे तथा सावधानियां (Shshkasana benefits, technique and precautions in Hindi)

योग का ज्ञान मन व शरीर के बीच सामंजस्य स्थापित करता है| पहले साधू, संयासियों तथा योगियों द्वारा योगाभ्यास किया जाता था| लेकिन अब आम लोग योग की महिमा तथा महत्व को स्वस्थ्य जीवन शैली के लिए महत्वपूर्ण समझ कर इसे अपना रहें हैं|

शशकासन क्या है (what is Shshkasana)?

शशकासन Yoga

बैठ कर किये जाने वाले आसनों में शशकासन बहुत ही महत्वपूर्ण आसन है| आसन करते समय जब हम पूर्णता की स्थिति में आते हैं तो शरीर की आकृति एक खरगोश के समान दिखाई देती है इसलिए इसे शशकासन कहते हैं| इस आसन को शशांकासन भी कहा जाता है यहां शशांक का अर्थ चन्द्रमा से लिया गया है| इस प्रकार शशकासन को Rabbit pose व Moon pose भी कहते हैं|

शशकासन की विधि (Procedure of Shshkasana in Hindi)

Step 1: शशकासन के लिए वज्रासन में बैठें|

Step 2: श्वास भरते हुए दोनों भुजाएं ऊपर की ओर खींचें|

Step 3: हथेलियों का रुख सामने की ओर रखें|

Step 4: श्वास बाहर निकलते हुए धीरे-धीरे आगे की ओर झुकें| पहले हथेलियां, फिर कोहनियां तथा फिर माथा आसन से लगे|

Step 5: सीना घुटनों पर, पेट thigh पर तथा hips (नितम्ब) एडियों पर लगे हों|

Step 6: यह पूर्णता की स्थिति है| अब सामान्य श्वास लेते रहें|

Step 7: श्वास भरते हुए धीरे-धीरे वापिस आयें| दाएं–बाएं से हाथ नीचे करें व विश्राम करें|

शशकासन (Shshkasana) करने की सही विधि व इसकी पूरी जानकारी आप मेरे इस youtube link पर भी देख सकते हैं|

शशकासन के फायदे (Shshkasana benefits in Hindi)

समर्पण की भावना: शशकासन करते समय जब हम आगे की ओर झुकते हैं तो मन में समर्पण की भावना उत्पन्न होती है|

तनाव व चिंता दूर: शशकासन का नियमित अभ्यास करने से तनाव व चिंता तो कम होती ही है तथा गुस्सा भी कम आता है|

पेट व पाचन के लिए लाभदायक: शशकासन का नियमित अभ्यास करने से पेट व नाभि के दोष दूर होते हैं| इस आसन के करने से पाचन ठीक होता है तथा कब्ज से राहत मिलती है|

मोटापा कम होता है: इस आसन का अभ्यास करने से पेट की चर्बी तो कम होती ही है साथ ही साथ कमर व hips की चर्बी भी घटती है|

शशकासन किन-किन के लिए वर्जित है (For whom Shshkasana prohibited)?

  • जिनके घुटनों में दर्द हो उन्हें यह आसन नहीं करना चाहिए|
  • जिन्हें slip-disc व cervical की समस्या हो उन्हें ये आसन नहीं करना चाहिए|
  • जिन्हें कमर में दर्द हो उन्हें यह आसन नहीं करना चाहिए|
  • जिन के पेट में किसी प्रकार की सर्जरी हुई हो उन्हें यह आसन नहीं करना चाहिए|
Babita Gupta

I am Babita Gupta M.A.(Psychology), M.Phil. (Education) want to share my knowledge and experiences which I have gained over the years. As an Educationist and Counsellor, I am dedicated to release the stress.

Leave a Comment

Copy link